राहुल गांधी के सामने फीका पड़ा पीएम मोदी का भाषण, जानिए किसने क्या कहा

img_20161219043706नईदिल्ली: राहुल गांधी ने जौनपुर तो वहीं PM मोदी ने कानपुर में रैली की। लेकिन इन दोनों भाषणों में राहुल गांधी पीएम मोदी पर भारी पड़ते दुखाई दिए।

पीएम मोदी ने कांग्रेस पर जमकर हमला बोला तो वहीं राहुल गांधी ने मोदी को अमीरों का चहेता कह डाला। राहुल गांधी ने कहा कि हम कैशलेस इकॉनमी के खिलाफ नहीं हैं, लेकिन लोगों पर कैशलेस इकॉनमी थोपी नहीं जानी चाहिए। उन्होंने कहा कि कुछ लोग कहते हैं कि आइडिया अच्छा था प्लानिंग खराब, मैं कहता हूं प्लानिंग सही थी, यह गरीब का पैसा फंसाने का प्लान था। राहुल गांधी ने ने कहा कि मोदी जी को मालूम था कोई कालाधन वापस नहीं आयेगा, हमने पूछा नकली नोट कितने हैं? सरकार ने जवाब दिया, 100 रुपए में से 2 पैसे। 
उन्होंने कहा कि जनता के पास 2000 के नोट नहीं पहुंच रहे हैं लेकिन आतंकवादियों के पास ये नए नोट कहां से आ रहे हैं। यह गरीबों पर नोटों की बमबारी की तरह है। गरीबों का देश में रहना मुश्किल हो गया। महंगाई बढ़ रही है जनता परेशान है। नए नोट मिल नहीं रहे हैं। लेकिन अमीरों के पास पैसे हैं न लाइन में लग रहे हैं न कहीं जाना पड़ रहा है फिर भी उनके पास पैसे हैं। लेकिन सवाल यह है कि यह पैसे आ कहां से रहे हैं। उन्होंने कहा कि गरीबों के पैसे से मोदी जी 8 लाख करोड़ रुपया 50 परिवारों का माफ करेंगे। वहीं 94 फीसद कालाधन विदेशी बैंकों, रियल इस्टेट, जमीन में निवेश और सोना में में लगा है लेकिन पीएम मोदी 6 फीसद लोगों के पीछे क्यों पड़े हैं। 
वहीं इससे पहले पीएम मोदी ने कानपुर में बोलते हुए कहा कि मेरे एक फैसले ने कांग्रेस को बेकार कर दिया है। पीएम ने कहा कि मेरे 8 नवंबर के ऐलान के बाद कांग्रेस के पसीने छूट गए। 70 सालों तक देश को लूटने वाले आज नोटबंदी के खिलाफ लड़ रहे हैं। उन्होंने कहा कि वो कांग्रेस से पूछना चाहते हैं कि वो उछल उछल नोटबंदी का विरोध कर रही है वो जरा देश को बताए कि कालेधन के खिलाफ क्या किया। इससे पहले पीएम मोदी ने कहाकि मैं चुनाव आयोग का अभिनंदन करना चाहता हूं कि उन्होंने राजनीतिक पार्टियों को कालेधन से मुक्त करने की अपील की है। उन्होंने कहा कि हम चाहते थे कि संसद में कालेधन पर चर्चा हो लेकिन विपक्ष नहीं माना। 
उन्होंने कहा कि वो ऐलान करते हैं कि मरते दम तक कालेधन और भ्रष्टाचार के खिलाफ लड़ता रहूंगा।  पीएम ने कहा है कि दिल्ली में गरीबों की सरकार है। हमने भ्रष्टाचार खत्म करने का प्रयास किया तो विपक्ष ने संसद में मर्यादाएं तार तार कर दीं। विपक्ष ने नोटबंदी को लेकर संसद को ठप कर दिया। राष्ट्रपति के कहने के बाद भी उन्होंने संसद नहीं चलने दी। उन्होंने कहा कि संसद में इस बार जो हुआ कभी नहीं हुआ। विपक्ष ने स्पीकर महाेदया के ऊपर कागज तक फेंक दिए। उन्होंने कहा कि ये पहली बार है कि संसद में विपक्ष बेइमानों को बचा रहा है और सरकार कालेधन के खिलाफ लड़ रही है। उन्होंने कहा मुझे यकीन था कि विपक्ष नोटबंदी को लेकर साथ देगा। लेकिन मेरे प्यारे देशवासियों मुझसे गलती हो गई। लेकिन जिनकी आदत ही बेइमानी की है उनसे क्या अपेक्षा।
इससे पहले उन्होंने कहा कि उत्तर प्रदेश में परिवर्तन की रैली नहीं आंधी चल रही है। उन्होंने कहा कि उप्र के लोग परिवर्तन करने के लिए आतुर हैं। उन्होंने कहा हमारा देश इतना भाग्यशाली है कि उसमें 35 प्रतिशत युवा हैं। मैं चाहता हूं कि मेरे देश के युवा की ताकत बाहर आए। उन्होंने कहा कि मैं अपने युवाओं के हाथों में ताकत के साथ साथ कौशल भी देना चाहता हूं। वहीं ख़बर है कि पीएम की कानपुर में रैली के पहले रिज़र्व बैंक ऑफ़ इंडिया ने उत्तर प्रदेश में 5000 करोड़ रुपये नकद भेजे हैं। शनिवार को RBI ने लखनऊ, कानपुर और वाराणसी सहित पूर्वी यूपी के लिए नकदी भेजी है।
 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *