पंजाब ने रोका पानी तो करनी पड़ी नहरबंदी…! जोधपुर के लिए अब बचा सिर्फ पांच दिन का पानी

captureजोधपुर के लिए अब बचा है पांच दिन का पानी, जलदाय विभाग के अधिकारियों की हुई बैठक, उच्चाधिकारी जायजा लेने के लिए पहुंचे लिफ्ट कैनाल

जोधपुर

राजीव गांधी लिफ्ट कैनाल आने वाले तीन दिनों तक बंद रहेगी। इसके चलते गांवों में नहर के पानी की आपूर्ति पूरी तरह बंद रहेगी जबकि जोधपुर शहर में जलापूर्ति के लिए नए सिर से जोन बनाए गए हैं। कैनालबंदी की घोषणा के बाद शुक्रवार को दिनभर जोधपुर, बाड़मेर और बीकानेर में पानी की व्यवस्थाओं व इससे जुड़े मसलों पर अधिकारियों की बैठकें चलती रहीं।

राजस्थान पत्रिका ने 29 दिसम्बर को सबसे पहले कायलाना में बचा सिर्फ छह दिन का पानी पेयजल किल्लत की आशंका शीर्षक से मुखपृष्ट पर समाचार प्रकाशित करके नहरबंदी की सबसे पहले सूचना दी। शुक्रवार को जलदाय विभाग के मुख्य अभियंता जय सिंह चौधरी ने सुबह अधिकारियों की बैठक ली और दोपहर को बाप, फलोदी, बालोतरा, बाड़मेर सहित अन्य जगहों पर राजीव गांधी लिफ्ट कैनाल में पानी की स्थिति का जायजा लिया। कैनाल के पास स्थापित डिग्गियों में जमा पानी को आसपास के गांवों को दिया जाएगा, लेकिन कैनाल में नए सिरे से पानी छोडऩे तक गांवों व छोटे टाउन में नहरी पानी की आपूर्ति बंद रहेगी।

पंजाब ने रोका पानी

राजस्थान व पंजाब सरकार के बीच लम्बे समय से जल समझौते को लेकर बातचीत चल रही है। सूत्रों ने बताया कि पंजाब ने राजस्थान को मिलने वाले पानी की मात्रा कम कर दी, इसलिए इन्दिरा गांधी नहर में भी आवक कम हो गई। इन सबके चलते राजीव गांधी लिफ्ट कैनाल को बंद किया गया है। सिंचाई मंत्री डा. रामप्रताप ने सिंचाई विभाग के अधिकारियों से रविवार को जलापूर्ति की रिपोर्ट मांगी है। साथ ही आश्वस्त किया है कि रविवार रात को कैनाल खोल दी जाएगी। जबकि आईजीएनपी (इन्दिरा गांधी नहर परियोजना) के अधिकारी बताते हैं कि मंगलवार को ही कैनाल से पानी शुरू हो पाएगा। कैनाल बंद होने के करीब 30 घंटे बाद जोधपुर में पानी की आवक पूरी तरह से बंद हो जाएगी। जबकि दोबारा कैनाल के कपाट खुलने के तीन दिन बाद पानी मदासर से जोधपुर के कायलाना जलाशय में पहुंचेगा।

कायलाना के भरोसे शहर

तखतसागर और कायलाना में 188 एमसीएफटी पानी है। जिससे चार दिन शहर में जलापूर्ति की जा सकती है, लेकिन विभाग ने जोन का नए सिरे से निर्धारण किया है। इसमें ज्यादा पानी वाले क्षेत्रों को कम पानी वाले क्षेत्रों में डाला गया है। इससे आने वाले दिनों में पूरे शहर में सभी जल उपभोक्ताओं को की जाने वाली जलापूर्ति में कटौती की जाएगी और इसके अलावा मेंटेनेंस के लिए भी जलापूर्ति बंद रखी जाएगी। इस प्रकार जोड़-तोड़ करके मौजूदा पानी को शहर में छह दिन की जलापूर्ति के लिए काम लिया जाएगा।

जलदाय विभाग के अधीक्षण अभियंता नगर वृत्त कैलाश रामदेव ने बताया कि पंाच से छह दिन के लिए शहर में जलापूर्ति के लिए पर्याप्त है। उन्होंने बताया कि एईएन व एक्सईएन से शहर में जलापूर्ति की रिपोर्ट ली गई है। उसी के अनुसार आगामी दिनों में जल वितरण किया जाएगा। सभी क्षेत्रों की जलापूर्ति में आंशिक कटौती की जाएगी।

हम पूरी स्थिति पर नजर रखे हुए हैं। जोधपुर में पानी की समस्या नहीं आएगी। इसकी प्लानिंग कर ली है। गांवों को फिलहाल नहर का पानी नहीं मिलेगा। सरकार से संवाद जारी है। उम्मीद है कि दो दिन बाद फिर से कैनाल शुरू हो जाएगी। -जय सिंह चौधरी, मुख्य अभियंता, जलदाय विभाग जोधपुर

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *