23766-sqfnbeiurl-1483175802-1

कांग्रेस पार्टी उपाध्यक्ष राहुल गांधी ने भारतीय रिजर्व बैंक (आरबीआई) के नए आदेश को लेकर प्रधानमंत्री मोदी पर निशाना साधा है. उन्होंने ट्वीट कर कहा, ‘पिछले 50 दिनों में प्रधानमंत्री की बातों पर से भरोसा खत्म हो गया है. नकद निकासी की सीमा को खत्म कर देना चाहिए.’ आरबीआई ने शुक्रवार देर रात जारी किए गए आदेश के तहत एक जनवरी, 2017 से एटीएम से नकद निकासी की सीमा 2500 रुपये से बढ़ाकर 4500 रुपये कर दी है. इसके अलावा और किसी तरह की राहत नहीं दी गई है. capture

राहुल गांधी ने ट्वीट कर मोदी सरकार से नोटबंदी से हुए नुकसान की भरपाई करने को कहा है. इसके लिए उन्होंने जो मांगें की हैं उनमें बीपीएल परिवार की एक महिला के खाते में 25,000 रुपये बतौर मुआवजा ट्रांसफर करने, पीडीएस के तहत अनाजों के दाम आधे करने और मनरेगा मजदूरों को एक साल तक दोगुनी मजदूरी देने की मांग शामिल है. उन्होंने किसानों को रबी की फसल पर न्यूनतम समर्थन मूल्य (एमएसपी) के आधार पर 20 फीसदी बोनस दिए जाने की बात भी कही है. इसके अलावा राहुल गांधी ने छोटे कारोबारियों को राहत के रूप में आयकर और बिक्री कर में 50 फीसदी राहत देने की भी मांग की. 

इस बीच, पूर्व केंद्रीय वित्तमंत्री पी चिंदबरम ने भी सरकार की आलोचना की है. अपने एक ट्वीट में उन्होंने कहा, ‘प्रधानमंत्री ने 30 दिसंबर तक धैर्य रखने के लिए कहा था जो खत्म हो चुका है. इसके बावजूद नकद निकासी पर सीमा क्यों लागू है?’ इसके अलावा उन्होंने सवाल किया, ‘क्या दो जनवरी से सभी एटीएम काम करेंगे और इनमें पर्याप्त पैसा है? यदि नहीं तो क्यों?’ चिदंबरम ने यह भी पूछा है कि क्या दो जनवरी के बाद रिश्वत लेना और देना बंद हो जाएगा.