अरुण जेटली ने टैक्स कलेक्शन का आंकड़ा किया पेश, कहा सिर्फ कस्टम ड्यूटी में दिखी कमी

arun-jaitely-gst-tax-reuters_650x400_81448280899-1नई दिल्ली। केंद्रीय वित्त मंत्री अरुण जेटली ने सोमवार को नोटबंदी पर उठ रहे सवालों के बीच टैक्स कलेक्शन का आंकड़ा पेश किया। उन्होंने कहा कि नोटबंदी के बाद इन-डायरेक्ट टैक्स कलेक्शन बढ़ा है। नवंबर महीने के मुकाबले यह 12.8 फीसदी रहा है। उन्होंने कहा कि बीती तीन तिमाहियों के लिए डायरेक्ट टैक्स बढ़ा है और इनडायरेक्ट टैक्स में भी उछाल देखने को मिला है। वित्त मंत्री राजधानी दिल्ली में टैक्स कलेक्शन को लेकर मीडिया को संबोधित कर रहे थे।

एक प्रेस कॉन्फ्रेंस के दौरान वित्त मंत्री ने कहा कि अप्रत्यक्ष कर में अप्रैल से दिसंबर 2016 के बीच ओवरऑल बढ़ोतरी बीते वर्ष इसी समय की तुलना में 25 प्रतिशत रही है। इसके अलावा उत्पाद शुल्क में भी 43 प्रतिशत बढ़ोतरी दर्ज हुई है जब कि सर्विस टैक्सी वसूली 24 प्रतिशत बढ़ी है।

उन्होंने आगे कहा कि डायरेक्ट टैक्स की बात करें तो इस अप्रैल से दिसंबर 2016 के बीच डायरेक्टर टैक्स में 12.1 प्रतिशत की बढ़ोतरी हुई है। सेंट्रल एक्साइज दिसंबर 2015 के मुकाबले दिसंबर 2016 में 31.6 प्रतिशत बढ़ा है। दिसंबर 2015 के मुकाबले दिसंबर 2016 में कस्टम्स में 6.3 प्रतिशत की कमी आई है।

जेटली के अनुसार नवंबर 2016 के मुकाबले दिसंबर 2016 में इनडायरेक्ट टैक्स में 12.8 प्रतिशत की बढ़ोतरी दर्ज हुई है। राज्यों से मिलने वाले वेट पर उन्होंने कहा कि ज्यादातर राज्यों से वेट वसूली में बढ़ोतरी हुई है।

जेटली बोले यह कच्चा अनुमान वास्तविक आंकडे बजट होंगे पेश:
जेटली ने कहा कि यह एक कच्चा अनुमान है, वास्तविक अनुमान बजट पेश होने के दौरान सामने रखे जाएंगे। जेटली ने कहा कि नवंबर महीने में वैट वसूली बढ़ी है। उन्होंने कहा कि दिसंबर महीने में सिर्फ कस्टम्स ड्यूटी की वसूली में 6 प्रतिशत की गिरावट दर्ज हुई, वह भी इसलिए क्योंकि गोल्ड का आयात प्रभावित हुआ जो कस्टम्स ड्यूटी का बड़ा स्रोत है।

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *