B’day Spl: ये खिलाड़ी बने ‘द वॉल’ राहुल द्रविड़ की बॉलिंग का शिकार

टीम इंडिया की वॉल कहे जाने वाले राहुल द्रविड़ ने क्रिकेट की दुनिया के हर फॉर्मेट में रन बनाए हैं। टेस्ट और वनडे की तकनीक में सबसे कुशल बल्लेबाजों में शुमार द्रविड़ बुधवार को 44 साल के हो गए हैं। द्रविड़ ने क्रिकेट में कुल 24,000 से अधिक रन बनाए हैं। द्रविड़ ने लंबे समय तक टीम इंडिया के लिए विकेटकीपिंग भी की है।rahul-dravid_1484112157

 मगर बहुत ही कम लोग जानते हैं कि राहुल द्रविड़ ने विकेट के पीछे से नहीं, बल्कि विकेट के आगे से भी बल्लेबाजों का शिकार किया है। द्रविड़ ने टीम इंडिया के लिए चुनिंदा मैचों में गेदबाजी भी की है। ऑफ ब्रेक गेंदबाजी करने वाले द्रविड़ ने टेस्ट और वनडे में कुल 51 ओवर गेंदबाजी की है और वनडे में उनकी इकोनॉमी और औसत युसुफ पठान से भी बेहतर है। आइए जानते हैं द्रविड़ की गेंद पर कौन-कौन से बल्लेबाज हुए हैं आउट:
 सईद अनवर (पाकिस्तान)
साल 1999 में जयपुर में खेले गए वनडे में द्रविड़ ने अपने करियर का पहले शिकार किया। अजहरुद्दीन की कप्तानी में द्रविड़ ने पहली बार बॉल बतौर बॉलर संभाली और पाक टीम के सबसे खतरनाक खिलाड़ी सईद अनवर को शतक बनाने से रोका। अनवर ने 95 रन को शानदार पारी खेली और पाकिस्तान ने 50 ओवरों में 9 विकेट खोकर 278 रन बनाए। हालांकि भारतीय बल्लेबाज पाक की तेज गेंदबाजी के आगे बेबस दिखा और 135 रन पर पूरी टीम ढेर हो गई।
 गैरी कर्स्टन (साउथ अफ्रीका)
टीम इंडिया के कोच रहे गैरी कर्स्टन भी द्रविड़ का शिकार बने हैं। साल 2000 में कोची वनडे के दौरान कर्स्टन और गिब्स की सलामी जोड़ी तड़ातड़ रन बरसा रही थी। दोनों ने शतक जड़ दिया और भारतीय गेंदबाज उनको आउट नहीं कर पा रहे थे। गांगुली ने लाचारी में गेंद द्रविड़ को गेंद थमाई और द्रविड़ ने शतकवीर कर्स्टन को 115 के स्कोर पर जडेजा के हाथों लपकवा कर टीम को राहत दिलाई। गिब्स ने भी 111 रन की पारी खेली और साउथ अफ्रीका ने 301 रन का स्कोर खड़ा किया।
 लांस क्लूजनर (साउथ अफ्रीका)
कोची वनडे नें ही द्रविड़ ने एक और विकेट लिया था। द्रविड़ ने सबसे बेहतरीन फिनिशर्स में शुमार लांस क्लूजनर को अपनी ही गेंद लपकपर आउट किया। द्रविड़ की बॉलिंग के चलते क्लूजनर खाता भी न खोल सके। इस मैच में द्रविड़ ने 9 ओवर में 43 रन दिए और 2 विकेट चटकाए और इस मैच में टीम इंडिया के सबसे सफल बॉलर रहे। यह उनका सर्वश्रेष्ठ गेंदबाजी प्रदर्शन है। अंत में भारत ने यह मैच 3 विकेट से जीता।
 शॉन पॉलक (साउथ अफ्रीका)
लंबे समय तक दुनिया के नंबर वन ऑलराउंडर रहे शॉन पॉलक 2000 में फरीदाबाद वनडे में द्रविड़ की ऑफब्रेक बॉलिंग पर गच्चा खा गए और बोल्ड हुए। पहले बैटिंग करते हुए भारत ने सौरव गांगुली (56) और राहुल द्रविड़ (73) की पारियों की बदौलत 248 रन बनाए। हालांकि साउथ अफ्रीका ने 49 ओवर में ही मैच जीत लिया, मगर द्रविड़ ने पॉलक को चलता किया। इस मैच में सचिन तेंदुलकर ने 4 बल्लेबाजों को आउट किया, मगर टीम को हार से न बचा सके।
रिडली जैकब्स (वेस्टइंडीज)
भारत और वेस्ट के बीच एंटीगा में खेले गए टेस्ट में 5 दिन में सिर्फ दो पारियों का खेल हुआ। पहले बल्लेबाजी करते हुए भारत ने 513 रन बनाए, जिसके जवाब में वेस्टइंडीज ने पहली पारी में 629 रन बनाए। हालांकि मैच ड्रॉ रहा, मगर टीम इंडिया के कप्तान सौरव गांगुली ने सभी 11 खिलाड़ियों से बॉलिंग करवाई। इस मैच में द्रविड़ ने 9 ओवर फेंके और 18 रन दिए और रिडली जैकब्स का शिकार किया। जैकब्स द्रविड़ का एकमात्र टेस्ट विकेट हैं। यही नहीं, इस मैच में वीवीएस लक्ष्मण और वसीम जाफर को भी विकेट मिले।

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *